Some useful golden words

Some useful golden words:

Heavy rains remind us of challenges in life. Never ask for a lighter rain, just pray for a better umbrella. That is Attitude.

When flood comes, fish eat ants and when flood recedes, ants eat fish. Only time matters. Just hold on. God gives opportunity to every one.

In a theatre when the drama plays, you opt for front seats. When a film is screened, you opt for rear seats. Your position in life is only relative. Not absolute.

For making soap, oil is required. But to clean oil, soap is required. This is the irony of life.

Life is not about finding the right person. But creating the right relationship. It’s not how we care in the beginning. But how much we care till the end.

Every problem has (N+1) solutions: where N is the number of solutions that you have tried and 1 is that you have not tried.

When you are in problem, don’t think it’s the End. It is only a Bend in life.

Difference between Man and God is God gives, gives and forgives. Man gets, gets and forgets.

Only two category of people are happy in life – the Mad and the Child. Be Mad to achieve a goal. Be a Child to enjoy what you achieved.

Never play with the feelings of others. You may win. But can lose the person for a lifetime.

There is no Escalator to success.  Only Steps!!

Posted from WordPress for Android

Advertisements

Collections Shayris

न जाने क्या मासूमियत है तेरे चेहरे पर……
तेरे सामने आने से ज़्यादा तुझे छुपकर
देखना अच्छा लगता है…..!!!

आप की कीमत
तब तक है,
जब तक आप के पास ऐसा कुछ है,
जो पैसे से ख़रीदा ना जा सके!

कशिश हो तो दुनिया मिलने को मचलती है,
जिंदगी शर्तों से नहीं जिन्दादिली से चलती है…!!!

न रुकी वक़्त की गर्दिश और न ज़माना बदला।।
पेड़ सुखा तो परीन्दो ने ठिकाना बदला.

वाह रे ज़िन्दगी ! भरोसा तेरा एक पल का नहीं और नखरे तेरे मौत से भी ज्यादा ।।

मैने जब भी दिल की शम्मा जलाई है,
कोई आँधी जरूर आयी है..

न जाने क्या मासूमियत है तेरे चेहरे पर……
तेरे सामने आने से ज़्यादा तुझे छुपकर
देखना अच्छा लगता है…..!!!

वो इस चाह में रहते है के हम उनको
उनसे मांगे,
और हम इस गुरुर में रहते है के हम
अपनी ही चीज़ क्यूँ मांगे?

ना खुशी खरीद पाता हूं
और ना गम बेच पाता हूं,
फिर भी ना जाने क्यूं
हर रोज काम पर जाता हूं….

ताज्जुब न कीजिएगा, गर कोई दुश्मन
भी आपकी खैरियत पूछ जाए,

ये वो दौर है जहाँ, हर मुलाकात में मकसद छुपे होते है..!!

” लोग केहते है की मेरे दोस्त कम है,
लेकीन वो नहिं जानते की मेरे दोस्तोमे
कीतना “दम” हैं …!!

कोई मिल जाए तुम जैसा ये ना-मुमकिन है,
पर तुम ढूँढ लो हम जैसा इतना आसान ये भी नही.

एक वो पगली है जो मुझे समझती नहीँ,
और यहाँ जमाना मेरी शायरी पढ पढ के दिवाना हुए जा रहा हैं…

तलाश में बीत गई
सारी जिंदगानी…ए दिल !
.
.
.
.
.
.
.
अब समझा की-खुद से बड़ा कोई हमसफ़र
नहीं होता !!

हम तो सोचते थे की
लफ्ज ही चोट करते है,
पर कुछ खामोशियों के जख्म तो
और भी गहरे निकले…

आदते बुरी नही हमारी
बस थोडे शौक उँचे है |

वर्ना किसी ख्वाब की इतनी औकात नही,
की हम देखे और वो पूरा ना हो…

पतंग कट भी जाए मेरी तो भी कोई परवाह नहीं,
आरजू बस ये है कि उसकी छत पे जा गिरे…!

“मुझे छोड़कर गर वो ख़ुश हैं…
तो शिकायत कैसी, 
और
मैं उन्हे ख़ुश भी न देख सकुं…
तो महोब्बत कैसी…।”

ज़िन्दगी सभी के लिए वही हैं..
फर्क सिर्फ इतना है…
“कोई दिल से जी रहा है”
और
“कोई दिल रखने के लिए
जी रहा है”…

Posted from WordPress for Android

Poetry…Kaविताy

सुन्दर कविता जिसके अर्थ काफी गहरे हैं……..

मैंने .. हर रोज .. जमाने को .. रंग बदलते देखा है ..
उम्र के साथ .. जिंदगी को .. ढंग बदलते देखा है .. !!

वो .. जो चलते थे .. तो शेर के चलने का .. होता था गुमान..
उनको भी .. पाँव उठाने के लिए .. सहारे को तरसते देखा है !!

जिनकी .. नजरों की .. चमक देख .. सहम जाते थे लोग .
उन्ही .. नजरों को .. बरसात .. की तरह ~~ रोते देखा है .. !!

जिनके .. हाथों के .. जरा से .. इशारे से .. टूट जाते थे ..पत्थर .
उन्ही .. हाथों को .. पत्तों की तरह .. थर थर काँपते देखा है .. !!

जिनकी आवाज़ से कभी .. बिजली के कड़कने का .. होता था भरम ..
उनके .. होठों पर भी .. जबरन .. चुप्पी का ताला .. लगा देखा है .. !!

ये जवानी .. ये ताकत .. ये दौलत ~~ सब कुदरत की .. इनायत है ..
इनके .. रहते हुए भी .. इंसान को ~~ बेजान हुआ देखा है … !!

अपने .. आज पर .. इतना ना .. इतराना ~~ मेरे .. यारों ..
वक्त की धारा में .. अच्छे अच्छों को ~~ मजबूर हुआ देखा है .. !!!

कर सको……तो किसी को खुश करो……दुःख देते ……..तो हजारों को देखा है..

image

Posted from WordPress for Android

Greet with a warm smile…

This story is about a person working with a freezer plant.
It was almost the day end. Everyone had packed up to check out.

A technical snag developed the plant and he went to check.

By the time he finished it was late. The doors were sealed and the lights were off.

Trapped inside the ice plant whole night without air and light, an icy grave was almost sure for him.

Hours passed thus. Suddenly he found someone opening the door.

Was it a miracle?

The security guard entered there with a torch light and helped him to come out.

On the way back the person asked the security guard, “How did you know that I am inside?” “Who informed you?” the guard said, “None sir; this unit has about 50 people. But you are the only one who says Hello to me in the morning and bye in the evening.

You had reported in morning. But did not go out. That made me suspicious.”

Never did the person know that a small gesture of greeting someone would prove to be a lifesaver for him.
So do us.

Remember to greet when you meet someone, of course with a warm smile.

We don’t know; that may work a miracle in your life too.

image

Posted from WordPress for Android

MM wordings

एक वो पगली है जो मुझे समझती नहीँ,
और यहाँ जमाना मेरी शायरी पढ पढ के दिवाना हुए जा रहा हैं…

Keep watching … The real life xperiences in shayari form

Posted from WordPress for Android